ईसरदासजी रो जस वखांण – मीठा मीर डभाल

दाखूं ईशरदास रा, जस आखर जगदीश।।१।।
हेक दास हिंगळाज रो, करे गयो औ कौल।
आप तणै घर आवसूं, बारठ सुणैह बोल।।२।।
सूरै बारठ सांभळे, विध मन कियो विचार।
जरूर मों घर जनमसी, अबै लेय अवतार।।३।।
गिरी हिम्म तन गाळयो, अडग करे मन आस।
जनम लेय हैं जावणो, वा सूरा रे वास।।४।।
सूरा घर जन्मयो सतन, धिन अवतार धरैह।
ईसर नाम दिनो अवस, कोडे हरख करैह।।५।।[…]

» Read more

कवि मनुज देपावत का आह्वान

जिसने जन-जन की पीड़ा को,
निज की पीड़ा कर पहचाना।
सदियों के बहते घावों पर,
मरहम करने का प्रण ठाना।
महलों से बढ़कर झौंपड़ियां,
जिसकी चाहत का हार बनी।
संग्राम किया नित सत्ता से,
वो कलम सदा तलवार बनी।[…]

» Read more

वर्षा ऋतू वर्णन – कवि श्री दुला भाया “काग”

।।छंद – सारसी।।
आषाढ घमघम धरा धमधम, वरळ चमचम वीजळी,
जीय वरळ चमचम वीजळी।।

गडहडिय सज दळ, आभा वळकळ, मंद प्रबळा मलकती,
दीपती खड खड, हसी नवढा, श्याम घुंघट छुपती;
अबळा अकेली, करत केली, व्योम वेली लळवळी,
आषाढ घमघम धरा धमधम, वरळ चमचम वीजळी,.
जीय वरळ चमचम वीजळी।।१[…]

» Read more

कवि जालण सी – दूलेराय काराणी (अनुवाद: ठा. नाहर सिंह जसोल)

कच्छ के महारावदेसलजी की बहिन विजयवंतीबा का ब्याह ईडर के राव कल्याणमल के साथ हुआ। राव कल्याणमल न्यायप्रिय शासक, साहित्य पे्रमी,विद्वानों के गुण ग्राहक, कवियों के अश्रयदाता और स्वयं एक अच्छे कवि। उनकी ख्याति सुनकर अनेक कविजन, विद्वान उनके दरबार में आते, काव्य पाठ करते, साहित्य चर्चा करते और मान-सम्मान के साथ विदा होते।
सभी गुणों से परिपूर्ण होते हुए भी उन्होंने एक सुथारण महिला को अपनी रखैल रखकर अपने ऊपर एक काला धब्बा लगा लिया। उससे वे इतने रीझ गये कि ब्याहता पत्नि कच्छ की राजकुमारी विजयवंतीबा को भी भूल गये। राज्य के अनेक कामों में उस सुथारण का हस्तक्षेप होने लगा।[…]

» Read more

भक्तकवि महात्मा नरहरिदास बारहट

भक्त कवि श्री नरहरिदासजी बारहट महान पिता के महान पुत्र थे। इनके पिता लखाजी बारहट भी अपने समय के प्रसिद्ध कवि एवं विद्वान् थे जिन्हें मुगल सम्राट अकबर ने बहुत मान दिया। जोधपुर के महाराजा सूरसिंह जी के ये प्रीतिपात्र थे। लखाजी के दो पुत्र थे। ज्येष्ठ गिरधरदासजी एवं कनिष्ठ नरहरिदासजी। इनका जन्म १५९१ ई. में राजस्थान के नागौर जिले के मेड़ता उपखंड में स्थित टहला ग्राम में हुआ। नरहरिदासजी बाल्यावस्था से ही बड़े होनहार एवं तेजस्वी थे। प्रारम्भ से ही नरहरिदासजी को अपने पूर्व के संस्कारों के कारण, भगवान की कथाओं और पौराणिक शास्त्रों में बहुत रूचि थी। वे […]

» Read more

जोग माया रो गीत सपाखरु – कविराज लांगीदास जी

देवी झंगरेची, वन्नरेची, जळेची, थळेची देवी;
मढेची, गढेची देवी पादरेची माय।
कोठेची वडेची देवी सेवगाँ सहाय करे,
रवेची चाळक्कनेची डूँगरेची राय।।1[…]

» Read more

गीत घोड़ी री तारीफ रो – महादानजी महडू

।।दोहो।।
उर चौडी दोडी उडै, डिगोडी मृग डाण।
गज मौडी तोडी गढां, दी घोडी दिवाण।।1।।

।।गीत सपाखरु।।
दिनां थोडी चौडी उरां घोडी वेग बधै दौडी,
तोडी फेट लागां गढां कोडी मोल तेण।
मोटोडी चसम्मा साळग्राम जेडी गजां मोडी,
भाणवा आछोडी घोडी बरीसी भीमेण।।1।।[…]

» Read more

संवेदना रो प्रवाह!!

आज आपां अपणै आप नै आधुनिक कै विचारवान कैवण में अंकै ई नीं संकीजां पण जद कोई आपांनै पूछै कै आप में संवेदना जीवती है!!तो आपां छ दांत र मूंडो पोलो री गत में ज्यावां। ज्यूं-ज्यूं आपां आधुनिकता रो आवरण ओढण लागा बिंया-बिंया आपां में असंवेदनशीलता पग पसारण लागी। जद ई तो आपां रै पाड़ौस में एक कानी लास माथै कूका रोल़ो मचियोड़ो है तो दूजै कानी उणी लास माथै लोग आपरी रोट्यां सैकण में लागोड़ा है अर आपां बीच में कदै ई इनै मूंडो बताय भला बजां तो कदै ई बिनै मूंडो बताय चातरक बजां!!पण पैला लोगां री कैणी अर रैणी एक सरीखी होती। दूजै रै दुख में दुखी होवणो अर दूजै रै सुख मे सुखी होवणो उणां री आदत रो एक भाग हो, जिणनै छोडणो वे आपरो अभाग मानता। ऐड़ो ई एक किस्सो है चोवटियां जोश्यां रै होल़ी नीं मनावण रो।[…]

» Read more

हूं नीं, जमर जोमां करसी!!

धाट धरा (अमरकोट अर आसै-पासै रो इलाको) सोढां अर देथां री दातारगी रै पाण चावी रैयी है। सोढै खींवरै री दातारगी नै जनमानस इतरो सनमान दियो कै पिछमांण में किणी पण जात में ब्याव होवो, पण चंवरी री बखत ‘खींवरो’ गीत अवस ही गाईजैला-

कीरत विल़िया काहला, दत विल़ियां दोढाह।
परणीजै सारी प्रिथी, गाईजै सोढाह।।

तो देथां रै विषय में चावो है-

दूथियां हजारी बाज देथा।।

इणी देथां रो एक गांम मीठड़ियो। उठै अखजी देथा अर दलोजी देथा सपूत होया। अखजी रै गरवोजी अर मानोजी नामक दो बेटा होया। मानोजी एक ‘कागिये’ (मेघवाल़ां री एक जात) में कीं रकम मांगता। गरीब मेघवाल़ सूं बखतसर रकम होई नीं सो मानोजी नै रीस आई। वे गया अर लांठापै उण मेघवाल़ री एकाएक सांयढ आ कैय खोल लाया कै – “थारै कनै नाणो होवै जणै आ जाई अर सांयढ ले जाई।”[…]

» Read more

धिन चंदू राखी धरा!!

उन्नीसवों सइको राजस्थान में उथल़-पुथल़ अर अत्याचारां रो रैयो। उण काल़ खंड में केई राजावां अर ठाकरां आपरै पुरखां री थापित मरजादावां रै खिलाफ काम कियो। जिणनै केई लोगां अंगेजियो तो केइयां प्रतिकार ई कियो। उण काल़खंड में चारणां रै बीसूं सांसणां में जमर अर तेलिया होया।
चारणां नै दिरीजण वाल़ो गांम सांसण बाजतो। वो गांम हर लागबाग सूं मुक्त होवतो अर राज कोई दखल नीं दे सकतो। आ एक थापित मरजादा ही। जद जद राज मरजादावां उलांगण री हद तक आयो तो चारणां अहिंसक रूप सूं राज नै रोकण सारू धरणो(सत्याग्रह)जमर अर तेलिया किया। इण तीनूं ई स्थिति में खुद ई कष्ट पावता पण जनता कै राज संपत्ति नै किणी भांत सूं हाण नीं पूगावता।
खुद उत्सर्ग कर देता पण सरणागत कै मरजादा नै नीं डिगण देता। जदकै आज इणरै उलट है। आज केई तबका आपरै प्रदत्त अधिकारां री रक्षार्थ हिंसक होय तोड़फोड़, निर्दोषां रा भोड-भंजण सैति कितरा ई अजोगता काम करै। इणरै उलट चारण कटारियां खाय कै जमर कर सत्य समर रा अमर सेनानी बणता।
उण कालखंड रा ऐड़ा घणा किस्सा है पण एक गीरबैजोग किस्सै सूं आपनै रूबरू करावूं।[…]

» Read more