ए ज सोनल अवतरी

।।दोहा।।
उग्रसेन चारण सकळ, कंस कळी बणवीर।
गोकुळ मढडा गाममें, सोनल जाई हमीर।।

।।छंद – सारसी।।
नव लाख पोषण अकळ नर ही, ए ज सोनल अवतरी।।
मा ! ए ज सोनल अवतरी ।।टेर।।

अंधकारनी फोजुं हटी, भेंकार रजनी भागती।
पोफाट हामा सधू प्रगटी, ज्योत झगमग जागती।।
व्रण तिमिर मेटण सूर समवड, किरण घटघट परवरी।
नव लाख पोषण अकळ नर ही, ए ज सोनल अवतरी।।
मा ! ए ज सोनल अवतरी…….।।१।।

जे दिने मढडे मांड मेळो, नात सघळी नोतरी।
पोषवा लाखांय लार पंगत, हसत वदने हूकळी।।
ते वखत वाधी मात व्रेमंड, आभ लेती आवरी।
नव लाख पोषण अकळ नर ही, ए ज सोनल अवतरी।।
मा ! ए ज सोनल अवतरी…….।।२।।

डरपीआ समदर नीर हटीआं, रंघाडे आंधण धरे।
दरीआव सळवांतणा भरीआ, भगतरा बेडा तरे।।
ताग लीयण तारुतणी टोळी, मा जळे बूडी मरी।
नव लाख पोषण अकळ नर ही, ए ज सोनल अवतरी।।
मा ! ए ज सोनल अवतरी…….।।३।।

प्रहलाद चारण कळी हरणष, मोतनोबत गडगडी।
नि:शंक आसुर थंभ थडकीय, बाळ हणशे आ घडी।।
अणवखत गरजी खंभसे, नरसिंहणी बणी नीसरी।
नव लाख पोषण अकळ नर ही, ए ज सोनल अवतरी।।
मा ! ए ज सोनल अवतरी…….।।४।।

ब्रह्मलोक मढड हमीर भगीरथ, शिव सोरठ शिर धरी।
वह धार खळखळ नीर नरमळ, आई गंगा अवतरी।।
ओधारवा तन सगर-चारण, नेसडामां नीसरी।
नव लाख पोषण अकळ नर ही, ए ज सोनल अवतरी।।
मा ! ए ज सोनल अवतरी…….।।५।।

धाबळी धरणी, ऊजळ वरणी, संकट हरणी, चारणी।
भंडार भरणी, मंगळ करणी, दधि-तरणी, तारणी।।
धरी शीश धरणी, “काग” बरणी, आई अन्नपूर्णेश्र्वरी।
नव लाख पोषण अकळ नर ही, ए ज सोनल अवतरी।।
मा ! ए ज सोनल अवतरी…….।।६।।

~~कवि दुला भाया “काग” बापु

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *