रातीजगा चिरजा – सायर माँ म्हाने बगसो अमर सवाग

।।रातीजगा चिरजा – सायर माँ।।

माँ म्हाने बगसो अमर सवाग, ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।
माँ म्हाने बगसो अमर सवाग ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।।
अंदाता ने मेमन्द सोवे सा, सायर माँ ने मेमन्द सोवे सा।
माँ म्हाने रखड़ी रे ओळे सोरा राख ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।
अंदाता ने झालज सोवे सा, सायर माँ ने झालज सोवे सा।
माँ म्हाने झुटणा रे ओळे सोरा राख ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।
माँ म्हाने बगसो अमर सवाग ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।।
अंदाता ने बेसर सोवे सा, सायर माँ ने बेसर सोवे सा।
माँ म्हाने मोतीड़ा रे ओळे सोरा राख ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।
अंदाता ने हांसज सोवे सा, सायर माँ ने हांसज सोवे सा।
माँ म्हाने तिलड़ी रे ओळे सोरा राख ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।
माँ म्हाने बगसो अमर सवाग, ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।।
अंदाता ने बाजू सोवे सा, सायर माँ ने बाजू सोवे सा।
माँ म्हाने गजरा रे ओळे सोरा राख, ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।
अंदाता ने धाबळ सोवे सा, सायर माँ ने मिसरू सोवे सा।
माँ म्हाने लोवड़ी री ओट बचाय, ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।
माँ म्हाने बगसो अमर सवाग, ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।।
अंदाता ने पायल सोवे सा, सायर माँ ने पायल सोवे सा।
माँ म्हाने बिछियाँ रे ओळे सोरा राख, ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।
अंदाता रे नेवज पुरसो सा, सायर माँ रे नेवज पुरसो सा।
माँ म्हारी रुच रुच भोग लगाय, ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।।
माँ म्हाने बगसो अमर सवाग, ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।
अंदाता ने मोहन ध्यावे सा, सायर माँ ने मोहन ध्यावे सा।
माँ म्हारा चुड़ला री करो सहाय, ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।
अंदाता ने सेवग ध्यावे सा, सायर माँ ने सेवग ध्यावे सा।
माँ थारा सेवगां ने शरणे सोरा राख ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।
माँ म्हाने बगसो अमर सवाग, ओढ़ावो पीळो चून्दड़ी।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *