वक्त – ग़ज़ल

कौन किसकी बात को किस अर्थ में ले जाएगा
यह समूचा माजरा तो वक्त ही कह पाएगा।

आसमां में भर उड़ानें आज जो इतरा रहे हैं,
वक्त उनको भी धरातल का पता बतलाएगा।

जिंदगी की चाह वाले मौत से डरते नहीं,
कौन कहता है परिंदा आग से डर जाएगा?[…]

» Read more

ग़ज़ल – रक्स में आसमान होता है।

जब मुझे तेरा ध्यान होता है।
औलिया का गुमान होता है।।१

इश्क ज्यों ज्यो जवान होता है।
उसका जल्वा अमान होता है।।२

मन में खुश्बू बिखेर दे हर सू,
प्यार गुगल लोबान होता है।।३[…]

» Read more

देखापा री दौड़ मची छै!

देखापा री दौड़ मची छै!
मंडी मुखौटां भोर जची छै!!

जुजिठल दाव लगाणो पड़सी!
शकुनि रामत और रची छै!!

कागा हंस हंसां नै कागा!
चवड़ै देर्या जोर गची छै!!

ठगवाड़ै सूं कड़ियां जुड़तां!
नड़िया नड़ियां ठोर नची छै!![…]

» Read more

बन्द करिए बापजी – गजल

हर बात को खुद पे खताना, बन्द करिए बापजी।
बिन बात के बातें बनाना, बन्द करिए बापजी।

बीज में विष जो भरा तो फल विषैले खाइए,
ख़ामख़ा अब खार खाना, बन्द करिए बापजी।

सागरों की साख में ही साख सबकी है सुनो!
गागरों के गीत गाना, बन्द करिए बापजी।

लफ़्ज वो लहज़ा वही, माहौल ओ मक़सद भी वो,
चोंक जाना या चोंकाना, बन्द करिए बापजी।[…]

» Read more

गजल – थे भी कोई बात करो जी – जी.डी.बारहठ (रामपुरिया)

थे भी कोई बात करो जी,
भैरू जी नै जात करो जी।
अपणो बेटो पावण सारूं,
दूजो सिर सौगात करो जी।।

जनम दियो सो जर जर होया,
पीळा पत्ता झड़ जासी,
सुध-बुध वांरी मती सांभळो,
मंदिर में खैरात करो जी।।[…]

» Read more

इक टक उन को जब जब देखा – ग़ज़ल

इक टक उन को जब जब देखा।
हम ने उन मे ही रब देखा।।१

लोग पुकारे “निकला चंदा”
छत पर उनको कल शब देखा।।२

साँझ सकारे त़का उन्ही को,
आन उन्हीं के कुछ कब देखा?३

“मय के प्याले लगे छलकने”,
माह जबीं का जब लब देखा!!४[…]

» Read more

दिन धोऴै अंधियारो कीकर

दिन धोऴै अंधियारो कीकर।
अणसैंधो उणियारो कीकर।।

सिकुड़ गया सह मकड़ीजाऴां।
बदऴ गयो ओ ढारो कीकर।।

बातां तो घातां में बदऴी।
रातां बंद हँकारो कीकर।।

तालर तालर कण कण जोयो
पालर पाणी खारो कीकर।।[…]

» Read more

गल़ी-गल़ी गल़गल़ी क्यूं छै!

आ गल़ी-गल़ी गल़गल़ी क्यूं छै! तीसरी पीढी इम खल़ी क्यूं छै!! ऊपर सूं शालीन उणियारो! लागर्यो हर मिनख छल़ी क्यूं छै!! काल तक गल़बाथियां बैती। वै टोलियां आज टल़ी क्यूं छै!! रीस ही आ रूंखड़ां माथै! तो मसल़ीजगी जद कल़ी क्यूं छै!! नीं देवणो सहारो तो छौ! पण तोड़दी आ नल़ी क्यूं छै!! काम काढणो तो निजोरो छै! कढ्यां उर आपरै आ सिल़ी क्यूं छै!! धरम री ओट में आ खोट पसरी! धूरतां री जमातां इम पल़ी क्यूं छै!! बाढणा पींपल़ अर नींबड़ां नै! तो बांबल़ां री झंगी आ फल़ी क्यूं छै!! कदै आ आप सोचोला! कै, भांग यूं कुए […]

» Read more

जाती रही – गजल

हाथ जब थामा उन्होंने, हड़बड़ी जाती रही।
जिंदगी के जोड़ से फिर, गड़बड़ी जाती रही।

‘देख लूंगा मैं सभी को’ हम भी कहते थे कभी,
आज अनुभव आ गया तो, हेंकड़ी जाती रही।

जो दिलों को जोड़ती थी स्नेह बन्धन से सदा,
घात का आघात खाकर, वो कड़ी जाती रही।[…]

» Read more
1 2 3 7