🌺आख्यां रा अमल रो हाको🌺

ह्रदय- कोटडी हे सखी!, जाजम नेह जमाव।
आखां तणा अफीम रो, हाकौ करै बुलाव॥1
नैणां तणा खरल्ल में, सैण नेह रस घूंट।
पछै अमल पा प्रेम सूं, लेय काळजौ लूंट॥2
करै पलक री गाळणी, खरल नेह रस घोळ।
अमल पिवाडो आंख सूं, पीतम थें मन -पोळ॥3

धोबा सूं धापै न मन, खोबा भर भर पाव।
आखां नेह अफीम नें, सखी मती सरमाव॥4
सैण तमीणा नेह सूं,  नैण हुआ घेघूर।
अमली बणियौ आप रो, रखै करौ अब दूर॥5

सैण नैण सूं रैण दिन, पावै घणै उमंग।
अमली मन अंजस करै, दे दे झाझा रंग॥6
अमल नेह रो है अजब , नशो उतरे नाय।
बिन धोबा खोबा भर्या, सैण नैण सूं पाय॥7
खार भंजणा गोळ री, सखी जरुरत नाय।
नरपत नैणां अमल रस, मीठो लगै सदाय॥8
अमल आप रा नेह रो,  दिल नें आयौ दाय।
रोज राज! मन -कोटडी, रहजौ सखी!बुलाय॥9

~~नरपत दान आसिया “वैतालिक”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *