अपणायत

मिनखां रै रेलै में
तासल़ियै बेलियां रै बिचाल़ै
पाणी !पाणी ! विलकती
मांगती प्राणां री भीख
तूटोड़ै ऊंठ ज्यूं डरती
गैणांग में उडतै गिरजां सूं।
खुरड़ा खोतरती _गिरणती
मदत रै सारू झांफल़ा खावती
हल़फल़ती सी
जाण अजाण बणती
जीवती माखी गिटती
करती आंख मीच अंधारो
कानां में सीसौ घाल
निकल़ती पासै कर
बगारती ग्यान री बातां
म्है दीठी घातां में
घाणमथाण अपणायत!
ऊठण नै तोड़ती तड़फा
रिणकती _गरल़ावती
चवड़ै चौगान चौवटै में
कूकती ,करल़ावती
जणणियां रै खोल़ै में
डुसकै चढियोड़ी
हांफल़ा मारती
कायर हिरणी सी
नखराल़ै नैणां सूं निहारती
मिनखपणै रा ऐनाण
म्है दीठी ही
एक काया अपणायत री
लास में बदल़ती।
म्है दीठी ही
सिकरै रै पंजै में
नैनी चिड़कली सी
छूटण रै सारू
तोड़ती तड़फा
लोहीझाण होयोड़ी
टांचां सूं टांच्योड़ी
खूस्योड़ी पांख्यां
ढल़कती आंख्यां
मरूं मरूं होयोड़ी
अपणायत म्है दीठी ही
आपरै ओल़ै -दोल़ै
बड़बडावती
अखरावती
सुणी ही कैती
कै
गरबीजती ही घणी
हो गीरबो घर रो
हर मेट दीनी
म्हारी अकल रै पाण ।
एक मा रा ऊकल़ता आखर
बैन री हंसी रै हबोल़ां में
म्है दीठी ही
एक घर री साख
राख में बदल़ती
अपणायत रै मारगां।
हांचल़ रा फूल
कुमल़ाइजता दीठा हा
अपणायत रै पाण
मसल़ीजता देव पुजारी रै हाथां
गूड़ री मिरकी रै सारू
सूकता दीठा हा
आकर रै तावड़ै में
आकरै पान ज्यूं
पा़खड़ियां खूस्योड़ै गेरै सा
बिनां बिसाई बैवता
सैवता ताप सीत
म्हारा मीत
सत मान
म्है दीठा हा
इण अपणायत री ओट में
आपांरै ई ओल़ै दोल़ै।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *