सरपंची सौरी कोनी है

घर में बड़तां ई घरवाळी,
बर-बर आ बात बतावै है।
जो दिन भर सागै हांडै है,
बै रात्यूँ घात रचावै है।

वो बाबै वाळो बालूड़ो,
अबकाळै आँटो चालै है।
सरपँच बणबा नैं साच्याणी,
सोहन रै सड़फां चालै है।[…]

» Read more

मत करो इस मुल्क से गद्दारियाँ पछताओगे

मत करो इस मुल्क से गद्दारियाँ, पछताओगे
देखकर फिर देश की दुश्वारियाँ, पछताओगे

वतन से ही बेवफाई फिर वफ़ा है ही कहाँ
खो के अपनी कौम की खुद्दारियाँ, पछताओगे[…]

» Read more

ये षड्यंत्री दौर

ये षड्यंत्री दौर न जाने,
कितना और गिराएगा।
छद्म हितों के खातिर मानव,
क्या क्या खेल रचाएगा।

ना करुणा ना शर्म हया कुछ,
मर्यादा का मान नहीं।
संवेदन से शून्य दिलों में,
सब कुछ है इंसान नहीं।।[…]

» Read more

संस्कारां रै संकट सूं जूझता रिश्ता

राजस्थान री संस्कृति, प्रकृति, जीवनमूल्य, परंपरा अर स्वाभिमानी संस्कारां री अंवेर करण वाळो अंजसजोग छापो ‘रूड़ौ राजस्थान’ तर-तर आपरौ रूप निखारतो, सरूप सँवारतो, समै री माँग मुजब सामग्री परोटतो पाठकां री चाहत रो केंद्र बणतो जा रैयो है। इण ओपतै अर उल्लेखणजोग छापै रा सुधी-संपादक भाई श्री सुखदेव राव मायड़भाषा राजस्थानी अर मायड़भोम राजस्थान रै गौरवमय अतीत रा व्हाला विरोळकार है। इण रूड़ौ राजस्थान छापै रै दिसंबर, 2019 अंक में आपरै इण नाचीज़ मित्र रो एक आलेख छपियो है, इण सारू भाई सुखदेव जी राव रौ आभार अर आप सब मित्रां सूं अपेक्षा कै आज रै समै परवाण ‘संस्कारां रै संकट सूं जूझता रिश्ता’ री साच सोधण सारू ओ आलेख ध्यान सूं पढ़ण री मेहरवानी करावजो।[…]

» Read more

दोबड़ी

देख जगत री चाल दोबड़ी
सांसां करै सवाल दोबड़ी

राजनीति रै रण-आँगण में,
ढाल बणी करवाल दोबड़ी

रंग बदळतां देख मिनख नैं,
किरड़ा कहै कमाल! दोबड़ी

सरम मरम री छांटां रोकै,
तोतक रा तिरपाल दोबड़ी[…]

» Read more

राष्ट्राराधना का गौरवमय काव्य: क्रांतिकारी केहर केसरी

“इदम् राष्ट्राय, इदम् न ममः” की अमर सूक्ति को यत्र-तत्र-सर्वत्र सुनने-सुनाने का सुअवसर पाकर भी हम अपने आपको धन्य मानते हैं लेकिन असल में उन हूतात्माओं का जीवन धन्य है, जिन्होंने इस महनीय आदर्श को अपने जीवन एवं आचरण से चरितार्थ किया है। राष्ट्रहितार्थ अपना सर्वस्व न्योच्छावर करके भावी पीढ़ी के लिए मिसाल कायम करने वाले असंख्य प्रातःस्मरणीय भारतीय चरित्रों में से एक अति विशिष्ट चरित्र है- क्रांतिकारी केसरीसिंह बारहठ। वीर वसुंधरा के विरुद से विभूषित भरतभूमि का इतिहास ऐसे असंख्य वीरों के शौर्य की गाथाओं से परिपूर्ण है, जिनको स्मरण करके हर भारतीय को गौरव की अनुभूति होती है।[…]

» Read more

रंग जोरावर रंग

दौरा दिन बै देस रा, फोरा साव फिरंग।
मच मच गौरा मारिया, रंग रे जोरा रंग।।01।।

भ्राता-सुतन प्रताप भड़, सदा रैयो जिण संग।
सखा केसरीसिंह सो, रंग जोरावर रंग।।02।।

मातभोम दुख मेटबा, आराध्यो इकलंग।
मलफ्यो मस्त मतंग ज्यूं, रंग जोरावर रंग।।03।।

ऊमर भर अज्ञात रह, करी न कोई कुसंग।
डट्यो रह्यो डिगियो नहीं, रंग जोरावर रंग।।04।।[…]

» Read more

कमाल जिंदगी

मैं देख देख हो रहा निहाल जिंदगी,
कदम कदम पे कर रही कमाल जिंदगी।

वो गाँव जो कि टीबड़ों के बीच में बसा हुआ,
कि अंग अंग अर्थ के अभाव में फंसा हुआ।
अकाल पे अकाल सालोंसाल भाल-लेख ये,
कि कर्ज-कीच में हरेक शख्स था धंसा हुआ।

बेहाल में भी ना हुई निढ़ाल जिंदगी,
कदम कदम पे कर रही कमाल जिंदगी।[…]

» Read more

सखा श्रवण को श्रद्धांजलि

अरे वा’रे जगत जहान रखवारे तेरे,
अटल अन्यारे कार पार मैं न पा सक्यो।
विरुद गोपाल धारे काम नाम सारे कारे,
गाय के पुकारे हाय रेल ना रुका सक्यो।
गूजरी के जाये को पठाए झट धेनु काज,
कहे ‘गजराज’ हाय! श्याम तू न आ सक्यो।
न्याय पे तिहारे करें काय पतियारे कृष्ण,
गाय को बचाने वारे को न तू बचा सक्यो।।[…]

» Read more

पहले राष्ट्र बचाना होगा

साथ समय के आना होगा
सच को गले लगाना होगा
फिर जो चाहे भले बचाना,
पहले राष्ट्र बचाना होगा।

समय-शंख का स्वर पहचानो!
राष्ट्रधर्म निभाना होगा
तेरी मेरी राग छोड़कर
हिंद-राग को गाना होगा[…]

» Read more
1 2 3 4 16