दोहा नें सब रंग दे, शेर गजल नें दाद|

जाहिद शराब पीने दे मस्जिद मे बैठकर,
या वह जगह बता जहां पर खुदा नहीं।
~~मिरज़ा गालिब (1797-1869)

मने करण दे मौलवी, मस्जिद में मदपान।
(या)जगह जगत में बावडौ, जठै नही भगवान॥
~~नरपत आवडदान आसिया “वैतालिक”

***

मस्जिद खुदा का घर है पीने की जगह नही,
काफिर के दिल मे जा, वहां पर खुदा नहीं॥
~~अलामा मुहम्मद इकबाल (1877-1938)

मस्जिद घर अल्लाह रो, नी महफिल रो स्थान।
काफिर रे जा दिल वसौ,जठे नही भगवान॥
~~नरपत आवडदान आसिया “वैतालिक”

***

काफिर के दिल से आया हूं में ये देख कर फराज,
खुदा मौजूद है वहां पर उसे पता नहीं॥
~~अहमद फराज (1931-2008)

दिल काफिर जा भाळियौ, देख्यौ में भगवान।
पण मालूम उण नें नहीं, अब लग है अणजाण॥
~~नरपत आवडदान आसिया “वैतालिक”

***

महोबत में नहीं है फर्क जीने और मरने का,
उसी को देखकर जीते है जिफ काफिर पे दम निकले।
~~ग़ालिब

फरक नहीं है प्रेम में, जीवण मरणा तांण।
देख उणीने जीवतौ, जिण पर वारुं प्रांण।
~~नरपत आवडदान आसिया “वैतालिक”

***

कहां मैखाने का दरवाजा ग़ालिब और कहां वाइज,
पर इतना जानते है कल वो जाता था कि हम निकले॥
~~ग़ालिब

कठै कलाळां हाटडी, कठे मौलवी साब।
काले उणनें देखिया, जातां वठै जनाब॥
~~नरपत आवडदान आसिया “वैतालिक”

***

उनको देखे से गर आ जाती है मुंह पर रौनक,
वो समझते है बीमार का हाल अच्छा है।
~~ग़ालिब

देख्यौ जद दिलदार नें, आभा मुख ह्वी और।
वा समझी बिमार नी, म्है हूं मांटी ठौर॥
~~नरपत आवडदान आसिया “वैतालिक”

***

ता फिर न इंतजार मे नींद आए उम्रभर,
आने का अहद कर गए आए जो ख्वाब में।
~~ग़ालिब

नेंण नींद आवे नहीं, बस उण दिन रे बाद।
सुपनें में कर कौल गा,मिळसूं रखजौ याद”॥
नरपत आवडदान आसिया “वैतालिक”

***

देखिये पाते है उश्शाक बुतों से क्या फैज,
इक बरामन ने कहा है कि ये साल अच्छा है।
~~ग़ालिब

देखां आशिक कीं नफो,लेवै दिलबर तांण।
एक ब्रामण इण सालरो, विध विध किया बखांण॥
~~नरपत आवडदान आसिया “वैतालिक”

***

ग़ालिब छूटी शराब पर अब भी कभी कभी,
पीता हुं रोज ओ अब्र औ शब -ए-माहताब में।
~~ग़ालिब

ग़ालिब छूटी वारुणी, तौ पण केई वार।
बादळ रातां चाद सूं, पीवूं अनराधार॥
~~नरपत आवडदान आसिया “वैतालिक”

***

हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन,
दिल को खुश रखने को ग़ालिब ये खयाल अच्छा है।
~~ग़ालिब

सुरग सुरंगी कल्पना,झूठ मूठ री राज।
पण गालिब चोखी घणी,मन खुश रखवा काज॥
~~नरपत आवडदान आसिया “वैतालिक”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *