गजल

virah

कांई थांने याद है हा पोर खिलिया फूल हरियल बाग में!
नाचता हा मोर गाती कोयलां इण ठौड पंचम राग में!
डोलता तरु डाळ सौरम लेण मिस हर पळ अली भाळे कळी,
बीण, डफ, मंजीर जिम गुंजार जाणे घुळी सोरठ राग में!
मोगरा, जासूद, चंपा, बोरसल्ली, जाई, जूथी, केतकी,
फूल वाळी घण रुपाळी धार कलगी कुंण आयौ पाग में!
छाई लाली फूलडां री फूटरी फाबै गुलाली आभ में,
रंग कसुंमल डील पर मल केसूडां रो कुंण रमियौ फाग में!
रात, तारा, चांदणी, रा घूंट री रस लूंट करबा रेत में,
अहर्निश आकंठ डूब्यौडो रियौ हूं आप रा अनुराग में!
रैण काळी, में रुपाळी, डील डाऴी, मलय तरू पर आप री,
भाळ चोटी, गुंफ बंधन, भेद भूल्यौ केश में अर नाग में!
ठौड तो बा इज है पण टेम बा बीतौ “नपा” रो सोवणो,
आज तो यादां तणा अवशेष ई है शेष म्हारा भाग में!
डायरी जूनीं पुराणी, मांय जिण अणगिण कहाणी, अणकथी,
लेय भेळी आव बेली, साथ बाचां फेर बाळां आग में!
भाग में किण रे लिख्या क्यूं काकरा हीरा किणी रे कीमती,
पूछणौ है भायला भगवान नें थूं आववा दे लाग में !
~~©वैतालिक

Loading

Leave a Reply

Your email address will not be published.