इण धरती सूं खोस रह्या है

चवड़ै-धाड़ै,
दिन दोपारां
बीच गवाड़ां
पीपल़ गट्टै
खोस रह्या है
अंतसहीणा
इण धरती सूं
अंतसवीणा!
खोस रह्या
तीज-तिंवारां
मेल़ां-मगरा
पायल़ री झणकारां साथै
सखियां री किलकारां जोवो
गीत प्रीत रा
इण धरती सूं
खोस रह्या है
खेजड़ आल़ै
थान-मुकामां
भाछ करीनै
लगता जम्मा
जात-पांत रै रोल़ै रफां
गप्पां रै गैंतूल़ां भाई
सगल़ां री बुद्धि चकराई
बांट लिया है
न्यारा-न्यारा है
देव दवारा
थारा-म्हारा
कारोल़ा कर कर नै धूरत
खोस रह्या है
इण धरती सूं
ओरण री हरियाल़ी भाई
बोरड़ियां मतवाली छाई
बोरड़ियां में चरती तोरड़
धरा धूंसती लंबी विरकां
मिरघ मलफता
सुसिया स्याणा
मोर कल़ावां
नीर तल़ावां
तिरिया-मिरिया
डाकीड़ां रै डोल़ा चढग्या
खोस रह्या है
इण धरती सूं
हेत खेत रो
पुणचै-पुणचै भार बंटावण
ल्हास करीनै
भर किलकारां
भण रामईयो
ले ले बेली
जोड़ी जुग में
थोड़ी जीणी
झीणी बातां
मन विलमातां
खेत खल़ै में
गातां गातां
किरसणियां रो
किरको भाई
काल़ निजर दे
पूंछ दबाई
उणी खेत री
उणी रेत में
खोस रह्या है
हेत हबोल़ा
इण धरती सूं
खोस रह्या है
बीच गवाड़ां
टाबरियां रा
हंसी हबोल़ा
भोल़प भेल़ी
हंसणो रूठण
चंदै रै चिलकारै
रमणो
बिनां पांख
आभै में भमणो
उतरणो दादी रै हेले
कान कंवर री
बातां-रातां
मुखमलियै गोडां री सैजां
हेजां रै हेवै हुय
नींद बापड़ी
बाट जोवती
पड़ी खाट रै ऊणै-खूणै
ग्यान दड़ी रा दोटा दे नै
जिकै पूगिया जोबन जोरां
इण धोरां रा रखवाल़ा भाई
जिकां आपरै
छोरां हाथां
देख थमाया
चवड़ै भाया
झुणझुणिया
दे नै इतराया
झुणझुणियां रै ओट ओल़ावै
वै विलमावै
थांनै-म्हांनै
आंनै-बांनै
छांनै-मांनै
कांनै-कांनै खबर नहीं है
कै
जिकै खोस रह्या
भाषा-भूषा भोजन
आंरो ! थांरो! म्हांरो भाई
इण धरती सूं।

~~गिरधरदान रतनू “दासोड़ी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *