जावण नीं द्यूं नंदकुमार

जावण नी द्यूं नंद कुमार!
रोकण करसूं जतन हजार!

नैण कोटड़ी राज छुपायर, बंद पलक कर द्वार।
दिवस रैण प्हेरो हूं देवूं, काढे़ काजल़ कार!।।१

जावण नी द्यूं नंद कुमार!
रोकण करसूं जतन हजार!

रोज रीझावूं रसिक मनोहर, निज रो रूप निखार।
प्हेर पोमचो नाचूं छम छम, सज सोल़े सिणगार।।२

जावण नी द्यूं नंद कुमार!
रोकण करसूं जतन हजार!

जावो कीकर थें जदुराजा, पोंतर म्हारो प्यार।
मनभावण जावण री बातां कीजो सोच बिचार।३

जावण नी द्यूं नंद कुमार!
रोकण करसूं जतन हजार!

लेवण थोंनें आवे उणरे, ले लठ धोड़ूं लार।
कूट कूट ने करूं चूरमों, खरी भरी हूं खार।।४

जावण नी द्यूं नंद कुमार!
रोकण करसूं जतन हजार!

बावल़, खेजड़ केर बोरड़ी,रा कांटा मग डार।
कर घायल रोकूं हरि केशव, पछे करूं उपचार।।५

जावण नी द्यूं नंद कुमार!
रोकण करसूं जतन हजार!

टूमण कामण करूं टोटका, मंतर तंतर मार।
वश करवा थोंनें विशवंभर, द्यूं सिर सरसव डार।।६

जावण नी द्यूं नंद कुमार!
रोकण करसूं जतन हजार!

ठौड़ ठौड रा देवल़ पूजूं, दर दर ठोकर खा’र।
रसिक पिया हिव रहो रंगीला, करे अरज ब्रजनार।।७

जावण नीं द्यूं नंदकुमार।
रोकण करसूं जतन हजार।।

रसिक! छैल! घनश्याम! मनोहर!, हे हरि! प्राणाधार!।
नरपत री सुण रुकजो नींतर, काल़ज खाऊँ कटार।।८

जावण नीं द्यूं नंदकुमार।
रोकण करसूं जतन हजार।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *