जतन – कवि वीरेंदर लखावत

SavePlanet

राखजौ जतना सूं आछी
जगत धरणी जोत नै
इण जीव शरणी भोम नै
गंगा सा निरमल नीर नै
फूलां सशोभित बाग नै
बागां महकती पवन नै

भाखजौ इण गरभ में
धरती रै गडिया हेम नै।
इण बुगल वरणा रजत नै
भंडार भरिया तेल नै,
पळ पळाता ताम्र नैखतम काळा कोयला अर खाण भरिया चून नै

जोवजौ जळथाह लैती
व्हेल नै,घड़ियाल नै
दरीयाव घोड़ा माछली री
लोप व्हेती जात नै।
जाणजौ इण सघन वन रा
गयंद,धवळा सेर नै
गोडावणी,चकवो, सरस
वन मूर्ग नै
कितराक बचग्या
हंस सरवर तीर पै
बुगला बीचारा
जीवता इण बगत में
जड मूळ सूं
मिटग्या जठै।

रौकजौ विग्यान री
गोड लगता होड नै
अणथाह काबू पावती
कूलालची इण कोड नै
जिण बंब गोळां सुं
उडाया दरख भारी
छांव रा
भाखर भमाया
सील ज्युं
खेतां में पड़्या खाड़ रा
मिनखा रा काढ्या काळजा
आभे में
बीजळ नी थमी।
केई गांव नै
केई सेर खडग्या
पलक पूतळी नीं संभी।
जिण कारनै
आभै अंधारी रात
गोटा गैस रा
अणमाप
बडग्यौ तावडौ अर लू
बेठी बारणै मरतु
मिटगी तीरस आपो आप
सांसां लेवणी
मिनखा री पड़गी नाप
घटग्यौ नीर कुआं
पोखरां दरियाव
जीलां साफ।
बदगी मांदगी
दाळद कियो रेहवास
मंडग्यौ ब्याव
घर कीड़ां-मकोड़ां
छिपकली अर माछरां रै खास।

~~वीरेन्द्र लखावत

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *