जे थूं म्हारो हाथ पकड़ले!

जे थूं म्हारो हाथ पकड़ले!
आथड़तो
पड़तो
थम जाऊं
रम जाऊं
नैणां गहर समंद में
लहर नेह री तिर जाऊं
जे थूं म्हारो हाथ पकड़लै!
बल़बल़ती ओकल़ में
भर प्रीत पाऊंडा
धोरां-धोरां
झूड़ बांठकां
पाल़ां-पाल़ां
छांह गगन री
अगन सूर री
झेल छातियां
हूं इतराऊं
झंगर झाड़ां
भाखरियां री छाती चढनै
थोरां ऊपर सैज सजाऊं
कलम काढनै
डैरी मांयां
आक बटूकत
मिरघां वाल़ी
मांड कुलांचां
कीरत किरकां
छंदां वाल़ी छौल़ां मांयां
करत इलोल़ा
कवि किलोल़ा
मन मोल़ां रै ओल़ां-दोल़ा
आणद वाल़ा भुरज बणाय’र
मांड अखाड़ा
अबखायां सूं बखड़ी आयर
बिखम वाट पर
हाट हेत री
थाट थाप नै
छेड़ मनां री
राग सुरीली
हद मरमीली
कर कर भाई
अंतस आई
तेड़ पाट दूं
जे थूं म्हारो
हाथ पकड़लै!

~~गिरधरदान रतनू “दासोड़ी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *