जीवट ही जीवण है

जीवट ही जीवण रो नाम अरे, जग देख तमासो हारी ना
जूझ्या ही कीमत जीवण री, लड़तोड़ो हीमत हारी ना

चींचड़ बण चूंटै काया नै, माया रा लोभी मतवाल़ा
पग पग रे छेड़ै परड़ां है, घट घट मे काल़ा फणवाल़ा
पावै जिण प्यालां दूध बता, विसड़ै री जागा की मिलसी
हेवा कर चुल़सी पाछो तूं, झाटां अर डंकड़ा घण मिलसी
पछतावो रैसी थिर मन मे, मन फाट गयै नै कारी ना
जीवट ही जीवण रो नाम अरे, जग देख तमासो हारी ना

थोथी है बातां मुगती री, पोथी मे भाया पढ लीजै
जीणो है जग मे बोत कठण, धूतां री चालां लख लीजै
दीजै मत आंनै भेद जरा, अंतस रो आडो खोल मती
तूं बोल मती तूं बोल इणां सूं, अपणायत आंरी तोल मती
विलमी मत बातां आंरी मे, विलम्यां सूं कोई चारी ना
जीवट ही जीवण रो नाम अरे, जग देख तमासो हारी ना

महलां रा माणीगर भाया, झूंपडिया रा वैरी है
ऊपर सूं दीसै घण मीठा, अंतस ज्यांरो जैरी है
दानवता रा पूजारी ऐ, रंकां रोटी खोसणिया
स़तां रे गाभां मे देखो, मानवता नै मोसणिया
मोरो दे उपदेसां लारै, बोदी बात विचारी ना
जीवट ही जीवण रो नाम अरे, जग देख तमासो हारी ना

बोफां रे अब देख भरोसै, पोपांबाई रो राज अठै
देश नै लूटणिया चवड़ै, दबनै बैठा ताज अठै
इसड़ां री पंचायत मांया, साचां नै तो दंडैला
ठगां री ठकराई बैसी, साहां नै तो भंडेला
इण दुनिया रा ऐ ही ढारा, धोखो मन मे धारी ना
जीवट ही जीवण रो नाम अरे, जग देख तमासो हारी ना

भारत री आबादी आधी, फुटपाथां पर सोती है
आजादी कुणसी है चिड़िया, देखो निस दिन जोती है
फाटो धाबल़ तूटो टापर, भूखो टाबर खोलै मे
बीती उमर तारा गिण गिण, लोकतंत्र रे रोल़ै मे
रोकड़ तो आंनो पास नही अर, धेली मिलै उधारी ना
जीवट ही जीवण रो नाम अरे, जग देख तमासो हारी ना

अबल़ां रो भीरी कुणसो है, कुण सुपनां रो मोल करै
गादड़ ऐ भूखा काया रा, नित अंग मांस रो तोल करै
मारग मारग आणो जाणो, एक रंग मे रैणो ओखो
साची बात कैवतां अब तो, निभणो है अबल़ां रो ओखो
डाकणियां रे डेरां मांही, खुद रा ई सुखियारी ना
जीवट ही जीवण रो नाम अरे, जग देख तमासो हारी ना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *