कलम री कड़पाण वाल़ा

कलम री कड़पाण वाल़ा
तूं सबां सूं साव न्यारो।
मिनख तुंही देख साचो
मिनखपण ही धरम थारो।।
राम सूं अनुराग तोनै
रहीम सूं उर भाव प्यारो।
तूं नहीं हिंदु नहीं मुसल़ो
देख सदियां ओही ढारो।।
तूं मस्त थारी निजु दुनिया
भेद रो नहीं सुणै कारो।
ओ ही कारण बावल़ा सुण
दुरंगियां तूं लगै खारो।।
तरवार सूं नहीं कंपियो तूं
तोप सूं नहीं कियो टारो।
गरल़ पीधो सरल़ मन तैं
जगत हित रो देख चारो।।
आखरां नहीं झाल़ उगल़ै
बोल मे सदभाव भारो।
निज हितां रै दे अल़ीतो
जनहितां मे जुड़णहारो।
अन्याव मे नहीं मून झालै
हाकलां नीं डरणहारो।
साच रै पख पैंड भरणो
लोभ सूं नहीं डिगणहारो।।
मसीत री अजान वाही
एक मंदर रणंकारो।
(तूं) मनै मालक एक भाई
भरम मे नहीं पड़णहारो।।
तूं चेतावै आखरां निज
साख जिणरी जगत सारो।
तुंही बारठ ईसरो है
कहण साची तूं कबीरो।।

Loading

Leave a Reply

Your email address will not be published.