करणी माता स्तवन

JAI BHVAANI🌺गीत सोहणौ🌺
सुखदायक नाम मात तौ सगती, दुखदायक पातक दुनिया।
वीसहथी वरदायक वाहर, कुळ जाई मेहा किनिया॥1

संकै मन मत मात सहायक, रंकौ री रिछपाळ रहै।
जस डंकौ उणरौ दुणि बाजै , लोवड री जो ओट लहै॥2

जाहर जोगण धर जंगळ री, वाहर करजै वीसहथी।
चरण शरण री रखै चाकरी, पात न वैभव चहै प्रथी॥3

किनियांणी धिणियांणी करणी, जरणी रा जो जाप जपै।
आदित -जस जीवण लग उणरौ, पद पद मात प्रताप तपै॥4

आवड तणी उपासक आई, मावड करनल थनैं नमों।
कर छावड तावड दूरौ कर, दावड रा दुःख आप दमों॥5

~~वैतालिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *