कुरजां बिरहण यूं कहै

कुंझडियां परदेसियां,आवै अर उड जाय।
साच नेह सफरी तणो,जळ भेळी सूखाय॥1

पावस मास विदेस पिव,जळूं विरह री झाळ।
थूं कुरजां बरसात में,भींजै सरवर पाळ॥2

कुरजां थारी पांख पर,आखर लिखूं अथाह।
बालम नें बंचाय दे,बिरहण मन री आह॥3

कुरजां थारी पांख नें,थोडी वळे पसार।
छतराळी कर छांयडी,घर आवै भरथार॥4

कुरजां म्हारी बेनडी,बालम -पंथ बुहार।
आसी घर अलबेलडो,लगा न जेज लगार॥5

कुरजां थारे बांध दूं,गळ मझ हीरक हार।
कर आ म्हारा कंथ नें,झाझा लुळै जुहार॥6

कुरजां बिरहण यूं कहै,देस्यूं लाख पसाव।
बालम री बातां मनें,गैली कछु सँभळाव॥7

पाख्यां कुरजां पीव नें,लाज्यै आज बिठाय।
आ इज बिनती है थनें,मन तन तिरस मिटाय॥8

कुरजां क्यूं काळी पडी,थारै चिंता कांय।
म्हारै बालम बायरा,थूं सरवर रे मांय॥9

कुरजां मत कुरळावजे,बालम बसे बिदेस।
थारै मन में कुछ नहीं,म्हानै लागे ठेस॥10

कुरजां कुरळायां कियां,तन रो कम ह्वै ताप।
बालम आया सूं हुवै,आणंद उर अणमाप॥11

कुंझडियां रळियावणी,बैठी मन- सर पाळ।
निजरां आगै नित रमें,गाढी घण हेताळ॥12

~~वैतालिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *