क्यूं राखै करड़ाण अणूती

क्यूं राखै करड़ाण अणूती।
छोड परी आ बाण अणूती।

धड़ो करंतां ध्यान राखजे,
निजर-ताकड़ी काण अणूती।
कुळपतराई कारण काया,
खाली ओगण खाण अणूती।
चाव-चूंटियो काढ़ माट सूं,
छाछ मती ना छाण अणूती।
मोटां पाण मती मोदीजे,
प्रीत-विहूण पिछाण अणूती।
काम पड्यां जो करै किनारो,
जकी मतलबी-जाण अणूती।
उडगण चांद आगियां चेतो,
भुरक्यां न्हाखै भाण अणूती।
पौधां रै पनपण में पंगा,
बरगद पाळी बाण अणूती।
रखवाळा ल्याळी रेवड़ रा,
ठणकै गाडर ठाण अणूती।
चूक्यां चाल मलाल मिलेला,
चढतां ऊंटां ढाण अणूती।
सुर नैं साध धीर रख सावळ,
तणी थकी मत ताण अणूती।
बणै काम अपणै बळबूतै,
पोल-ढोल री पाण अणूती।
आँख मीच मत करे अँधारो,
होवै नितप्रत हाण अणूती।
पत राख्यां ‘गजराज’ रहै पत,
कोई न राखै काण अणूती।

~~डॉ. गजादान चारण ‘शक्तिसुत’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *