लाडली

BetiHaiToKalHai

।।एक रचना बेटियां रै नाम।।
।।लाडली।।

आस तणो आधार लाडली
सैणां रो संसार लाडली
मरजादा री असली मूरत
पत-समदर पतवार लाडली।

तूं गणगौर दिवाळी दिपती
तीज तणो त्योहार लाडली।
प्रीत नीत परतीत परस्पर
रीत तणी रखवार लाडली।

ऊंचो सीस जिहास जिगर में
है सब थारै लार लाडली।
पग आतळतां प्रण पण छूटै
वहणो सोच-विचार लाडली।

अळगा टाळ कुलखणां कांटा
(अर)मिजळां री मनुहार लाडली।
सुमन-सुभाव राख सैणां हित
दोख्यां हित अंगार लाडली।

हिव-पिव री हरियाळी बणजे
सज सोळै सिणगार लाडली।
साख राख सुसरै री साची
सासू रो दिल ठार लाडली।

खोट कियां मिलणा है खाडा
फोट फजीती हार लाडली।
कर-कर कोड काम थूं करजे
निकमापणो निवार लाडली।

स्वारथ नाव फंसै मझ-सागर
डूबै काळीधार लाडली।
सुकृत गाथ सुणै सौ कोसां
पंगी समदां पार लाडली।

रोपी सदा पौध-पुण्याई
कदे न लोपी कार लाडली।
सौंपी थनैं ठावकी थाती
समझे मत ना भार लाडली।

जे थूं जाणै बोझ जूणनैं
ओ अज्ञान अंधार लाडली।
आप-आपरी ठौड़ ओपता
जूण-जगत व्यवहार लाडली।

हर घर में माटी रा चूल्हा
ऊपर गौरी गार लाडली।
खराखरी खामी अर खूबी
नहचो राख निहार लाडली।

हर जूणी री अपणी आभा
लख सूई तलवार लाडली।
कुण मोटो अर छोटो कुण है
अपणो अपणो कार लाडली।

पीहर अवर सासरै पाळी
साख-सीर-संस्कार लाडली।
झूठ कपट हुंसियारी झांसां
रळ्यां रुळै घरबार लाडली।

अै रिश्ता आभूषण साचा
बोले मत बेकार लाडली।
रिश्ता रुळ्यां माजनो रुळज्या
(पछै) जीत भलां भल हार लाडली।

धरम बीज धीमापण राखै
बड़ पींपळ बिस्तार लाडली।
पाप बीज पल में पांगरज्या
अेरंड रै उणियार लाडली।

सस्ता मरण-जीण रा सौदा
करै जिका किरदार लाडली।
गफलत में रहजे मत गैली
अै मतलबिया यार लाडली।

गई कर्यां फोड़ा घालैला
आंख्यां खार उतार लाडली।
ताण तरजणी तोड़ थोबड़ो
फट सैंडल फटकार लाडली।

बंधन जिका ब्याव नैं बोलै
सिटळां रा सिरदार लाडली
सूकर-स्वान समझजे वानैं
है इणरा हकदार लाडली

दुख-सुख रा म्याना घण दौरा
सौरा मिलै न सार लाडली।
धीरज तुला राखजे धीवड़
बाट विवेक विचार लाडली।

मैं नीं कहूं मार लै मन नैं
सोची धीरज धार लाडली।
पाणी जे कंठां आज्यावै
तो झट पकड़ कगार लाडली।

हूं जाणूं थारोड़ै हिव री
पण थूं कह इक बार लाडली
ठावी ठिमर बात थूं कहसी
है इसड़ो इतबार लाडली।

तणगी बीण तार जे टूट्या
राग-रंग बेकार लाडली।
मन ही मन मत मोस रीस नैं
मत तूं मन ना मार लाडली।

समझ अेक सपनो है टूट्यो
टूटै टूटणहार लाडली।
सपनो गयो अंधेरो छंटियो
भौर मिल्यो रंगदार लाडली।

मोटी सीख मानजे म्हारी
पढजे बारम्बार लाडली।
सदा तिहारो साथ निभावण
अै सिरज्या असआर लाडली

जग सूं संग चालसी जातां
राम नाम रुणकार लाडली।
निरपेखी निजरां जो निरख्यो
सौ सब मांड्यो सार लाडली।

~~डॉ. गजादान चारण “शक्तिसुत”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *