म्हूं तो मन माने ज्यूं राचूं

mirabai

म्हूं तो मन मानें ज्यूं राचूं।
साँवरियो बण कागद लिख द्यूं, मीरां ह्वै फिर बांचूं।

कदे वेदना हँस हँस गाऊ, कदे खुशी में रोऊं।
मनोभाव मणिमुकता माल़ा, जोडूं तोडूं प्रोऊं।
लडियां कडियां आँच अनुभव, कर कर कुंदन जांचूं।
म्हूं तो मन मानें ज्यूं राचूं।
साँवरियो बण कागद लिख द्यूं, मीरां ह्वै फिर बांचूं।

कदे सबद री करूं साधना, कदे भाव सूं यारी!
अमर पियाला कविता पीतां, आठों जाम खुमारी!
प्रणव नाद री चिलम बणेंनें, जोगी कद कद खांचूं।।
म्हूं तो मन माने ज्यूं राचूं।
साँवरियो बण कागद लिख दूं, मीरां ह्वै फिर बाँचूं।।

कदे मौन री साखी बोलूं, कदे शबद री हेली!
रीझूं खीझूं खुद ई खुद पर, म्हूं सांई म्हूं बेली!
मन आंगण पद घूंघर बांधै, “नरपत” छम छम नाचूं।
म्हूं तो मन मानें ज्यूं राचूं।
साँवरियो बण कागद लिख द्यूं, मीरां ह्वै फिर बांचूं।

~~©वैतालिक

Leave a Reply

Your email address will not be published.