🌷मित्रता – गजल🌷

20160807_194918

है खांडै री धार मित्रता।
सबसूं उत्तम कार मित्रता!!
रथ हांकै नै पग धो देवै।
सँभल़ै डग -डग लार मित्रता!!
डिगतै नैं कांधो दे ढाबै।
निज भुज लेवै भार मित्रता!!
बढती -घटती नहीं चांद ज्यूं।
सुख-दुख में इकसार मित्रता!!
तन-मन-धन सब अर्पण करदे।
लालच स्वारथ मार मित्रता!!
छल़ -बल़ साम्हीं तणनै ऊभै।
दृढता रै हद द्वार मित्रता!!
गुडल़ो बादल़ वणनै वरसै।
बल़ती छाती ठार मित्रता!!
जीत मित्र री सिर स्वीकारै।
खुशियां पल्लै हार मित्रता!!
ज्यूं -त्यूं बेड़ो पार लगावै।
नीं छोडै मँझधार मित्रता!!
जिणसूं जुड़ग्यो जड़ीजंत बो।
मन सूं मन रो तार मित्रता!!
जात -पांत नै धर्म धजा सूं।
रैवै निरभै बार मित्रता!!
ऊंच -नीच रै भरम न झूलै।
भेद मरम नै पार मित्रता!!
पद रै मद नैं रद वा करदे।
सदरै गुण वा सार मित्रता!!
परस बादल़ रो पा उर विकसै।
हर दिस थोथी थार मित्रता!!
~~गिरधरदान रतनू “दासोड़ी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *