ओ कोरोना पाछो आयो

ओ कोरोना पाछो आयो।
टाबरियां मिल ढोल घुरायो।
नव्वीं तक की छुट्टी होगी,
दसवीं वाळां मुँह लटकायो।
निर्देशकजी सिर खुजलायो।
ओ कोरोना पाछो आयो।।01।।

दोगाचींती में दफ्तरिया।
आवै अफ़सर डरिया डरिया।
आफ़त ज्यूं लागै आवणियां,
सगळा सिरकै परियां-परियां।
मूंडै ढाटो, मास्क लगायो।
ओ कोरोना पाछो आयो।।02।।

बिन आयां ई ब्याव साजग्या।
सगा संबंधी दूर भाजग्या।
टैंट केटरिंग खड़ा उडीकै,
बैंड वाळां रा बैंड बाजग्या।
सावां माथै संकट छायो।
ओ कोरोना पाछो आयो।।03।।

मदवै अपणो मगज़ चलायो।
दस कैरट इक साथ लियायो।
सेठां अपणी भरी भखार्यां,
अमलदार ओडी भर ल्यायो।
सैणां पर आफ़त रो सायो।
ओ कोरोना पाछो आयो।।04।।

मजदूरां रा तोता जोया।
थकां धान बै भूखा सोया।
काळो भविस देख दहलीज्या,
मांय मांय रजनी भर रोया।
मांटी मोर जियां कुरळायो।
ओ कोरोना पाछो आयो।।05।।

परदेसां में बैठो सांईं।
परणी कह आज्या घर तांईं।
बंतळ बिच में मौन पुकारां,
जे आवै तो खावै कांईं।
दीन हीन रै दुर्दिन लायो।
ओ कोरोना पाछो आयो।।06।।

जियां तियां कर काळ काटणो।
(इण) कोरोना नैं दूर डाटणो।
आपां सगळां नैं साहस रख,
इक दूजै रो दरद बाँटणो।
साथ निभातां मत सरमायो।
ओ कोरोना पाछो आयो।।07।।

~~डॉ. गजादान चारण ‘शक्तिसुत’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *