ओल़भो

ओल़भो!
कीकर देवांला ?
देवांला किणनै ओल़भो?
पाव री ठौड़ !
पंसेरी रो घाव!
कर रैया हो डाव ऊपर डाव
साव साचाणी
बल़ियोड़ै मूंडै
कीकर देवांला फूंक
अपरोगा लाग रैया है
सारा उणियारा।
मनरल़ी री बातां
घातां री घाणमथाण में
अल़ी गल़ी होयगी है
रड़कै है सिल़ी मन में
तूटगी आसंग तन री
क्यूं कै
बीतगी बातां
रातां रै बालै
घातां में घुल़गी अपणायत
पीढ्यां री !
आप देखी हो ?
कुदाव में पड़गी प्रीत
पांगरण सूं पैला ई!
लांबोड़ै हेलै
ओछोड़ी विरकां
उलटी पढ लीनी पाटी
कदै सोच्यो है?
ताटी रै ताण
कीकर रुकेला
भार भींतां रो!
नीं समझणियै मीतां रो
किणनै देवांला ओल़भो?
एकर सोचजो आप
जाप उलटा जपियां
पार नीं पड़ सकेला
थांनै ठाह ई है
कै
बिल में बड़ती वेल़ा
फणधारी नै ई होवणो पड़ै है
साव पाधरो
थै तो बटबटीजो हो!
बांटो हो किड़किड़ी
चिड़चिड़ी आदत रै पाण।
चिड़बोथिया ई कर सको हो
पण किणनै देवांला ओल़भो
आंपा तो भलपण
हिंयै रो हेत
अर अंतस अपणायत रो
कर चूका ऊजमणो
ठंडी वारां में ई
पछै किण बात रो ओल़भो
अर किणनै ओल़भो
~~गिरधरदान रतनू दासोड़ी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *