पाती लिखतां पीव नें

पाती लिखतां पीव नें, उपजै भाव अनेक।
मन तन री पर मांडवा,आखर मिल़े न एक।।१
पाती लिखणी पीव नें,बात न लागै ठीक।
कीकर भेजूं ओल़भा,दिलबर दिल नजदीक।।२
पाती तो उण नें लिखां,दिल सूं होय जो दूर।
उणने कीकर भेजणी,जो मन-चंदा-नूर।।३
पाती उणने भेजणी,जिणसूं करणी बात।
आपूं कीकर ओल़भा, सुपने साजण साथ।।४
पाती री जाती नहीं,बाँची उणरी बात।
इणसूं अरजी आवजो,नहीं हाथ जजबात।।५
सबदां री सावण झडी,आखर रा घन गाढ।
भेजूं बालम भींज जो,प्रीति पढो प्रगाढ।।६
रतियां में पतियां लिखूं,बतियां बालम बाँच।
मन बसिया रसिया पिया,कहती थानें साँच।।७
आखर चंपा मोगरा,कागद में अणपार।
भरे भाव परिमल़ सहित,भेजूं सुण सिरदार।।८
पातांही पातीह, प्रियतम पाती भेजजो,
फूलै गज छातीह, पातां जिण नें प्रेमसूं।।९

 “वैतालिक” कृत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *