रे बाजे समदर तीरां

।।गीत जात बुध चित्त विलास।।

रे बाजे समदर तीरां!
मादल़ डफ चंग झांझ मंजीरा!
नवलख संग नित रास रमे रव गूंजे गगन गंभीरा!
घरर घरर समदर घुघवाटे, निरमल़ उछल़त नीरा!
समदर तीरा!

रे कूजत कोकिल कीरा,
बरही चातक बोले बीरा!
चम चम चम चम बीज चमंके, सननन बहे समीरा!
झणण झणण पद झांझर झणके, धरतां मां पग धीरा !
समदर तीरा!

रे नवलख तारक हीरा,
लोवड़ ओढी साँझ मलीरा!
ताल़ी दे नाचै मतवाल़ी चारु धरे पट चीरा!
कुम कुम नभ बिच केसर छाया, अनहद उड़त अबीरा!
समदर तीरां।

अतुलित रुप अनादि अंबा!
जय हो जोगण जय जगदंबा!
मधुर भाषिणी मँद मँद मलके, करुणा कृपा कदंंबा!
छतराली छाया करती छिति अखिल अवनि अवलंबा।
रे जगदंबा!

~~©नरपत वैतालिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *