🌹 सबरै घरै दीवाल़ी होसी!!🌹

मन रो तिमिर हरैला दीपक,
उण दिन ही उजियाल़ी होसी!
मिनखपणो होसी जद मंडित ,
देख देश दीवाल़ी होसी!!
🚩
जात -पांत सूं ऊपर उठनै,
पीड़ पाड़ोसी समझेला!
धरम धड़ै में बांटणियां वै,
घोषित उण दिन जाल़ी होसी!!
🚩
कर्मठता री कदर जिकै दिन,
ठालोड़ा अंतस में करवा!
मैणत री पूजा में भाई ,
हाथ सज्योड़ी थाल़ी होसी!!
🚩
सतवादी हरचंद री फोटू,
घर घर रो सिंणगार बणैली!
भ्रष्टाचार कोम रै सारू
तिण दिन भद्दी गाल़ी होसी!!
🚩
संविधान गीता री जागा,
जद भान हुवैलो हर जन नै!
मंदर मंदर धजा तिरंगो,
जबरो ठौड़ धजाल़ी होसी!!
🚩
न्याय कचेड़ी नहीं बिकैला,
साच रहेला आंच बिनां!
पंच रूप परमेसर तिण दिन,
रीतां खास रुखाल़ी होसी!!
🚩
वर्ग भेद री आंधी थमसी,
मिनख मिनख नै मानेलो!
दंभ रो थंभ पड़ेलो तिण दिन,
हाथां दोऊं ताल़ी होसी!!
🚩
काल़ी रात अमावस वाल़ी,
सत री राह सूझावेली!
दीपक जोत पांगरै प्रीति,
सबरे घरै दीवाल़ी होसी!!
🚩🚩🚩🚩
~~गिरधरदान रतनू “दासोड़ी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *