रांमदेवजी रा छंद

।।छंद-नाराच।।
मुदै मरू ज देश मंझ, हार संत हालियो।
दयाल़धीस द्वारका, निपूत भक्त नाल़ियो।
अखीज वीणती अजै ज, राज गेह रम्मणा।
पिछम्म धांम रांम पीर, सांम भीर सम्भणा।।1[…]

» Read more

मोगल वंदना

!!छंद-नाराच (पंच चामर)!!

प्रणम्य !श्री गुरूं !पदाम्बुजं सुचित्त लाइके!
उमा-महेश पुत्र श्री गणेश को मनाइके!
स्मरामि धात्रि काव्य दात्रि श्वेतवस्त्र धारणी!
श्री मोगलं शिरोमणी! सुचिंतयामि चारणी!! १[…]

» Read more

हनुमत वंदना

!!छंद-नाराच (पंच चामर) !!
अकूत शौर्य!अंजनी-प्रसूत! ज्ञानसागरं!
कपीश!राघवेन्द्रसैन्ययूथमुख्यवानरं!
सिया-सपूत!प्रेतभूतपूतनादिदंडनं!
श्रीरामदूत! वायुपूत! हे हनूंत वंदनं!! १[…]

» Read more

माँ मेलडी वंदना

!!छंद – नाराच!!
अजं सवार, मां उदार, नेह की निहारणी!
कुठार खप्र खाग धार सर्व काज सारणी!
“रही पधार मावडी, चलो पुकारिये छडी”
भजामि कष्ट भंजनी, नमामि मात मेलडी!! १[…]

» Read more

शिव वंदना

।।छंद – नाराच।।
तरंग गंग मस्तकै:! सुपूजितं समस्तकै:!
पिनाक चाप हस्तकै:! पुनश्च पाप ध्वस्तकै:!
गले भुजंग, भस्म अंग, आशुतोष शंकरं!
नमामि नामि! त्वां भजामि! स्वामि -पार्वतीं हरं!! १[…]

» Read more

छंद खेतरपाळजी रौ – मेहाजी वीठू

।।छंद नाराच।।
भयांण तेह जांण गेह, रूप नेह रच्चये।
सुरा सलेह मन्न मेह, पनंगेह परच्चये।
तईम तेह सेह जेह, गेह गेह गल्लऐ।
गुणै गहीर सूर धीर, खेत वीर खिल्लऐ।।1।।[…]

» Read more

श्री डूंगरराय स्तवन – कवि चाळकदान जी रतनू (मोड़ी)

।।छन्द – नाराच।।
अच्छे रचे जु आवड़ा, अस्थान वे अखण्डळा।
नचे जचे सुनाचता, मचे सुरा समण्डळा।
जगत्त मात जां जुरीय, जोगणी सुजोगरी।
रमंत माढ़राय माय, डूंग्रराय डोकरी।
जी डूंगरेच डोकरी।।

नभस्सु माय न्रम्मला, सुभस्सु जाम सत्तमी।
रमत्त रास ईसरी, जमत्त मात जक्तमी।
घमंक पाय घूघरा, धराधर धूजै धरी।
रमंत……………………………।।[…]

» Read more

गोड़ावण गरिमा – कवि मोहन सिंह रतनू

।।छंद नाराच।।
वदे महीन मृदूबाक, काग ज्युं न कूक हे
बैसाख जेठ मास बीच ,लूर मोर सा लहे
सणंक सो करे सुवाज ,भादवे लुभावणी
जहो गुडोण जागरुक मारवाड तू मणी…..१[…]

» Read more

स्तुति श्री करणी माँ की – कवि जयसिंह सिढ़ायच (मण्डा-राजसमन्द)

।। छन्द – नाराच।।
नमो अनन्द कन्द अम्ब, मात मैह नन्दिनी।
निकन्द फन्द दास द्वन्द, विश्व सर्व वन्दिनी।।
कृपा निधाण किन्नियांण, बीस पाण धारणी।
नमौ धिराण दैशणोक, तीन लौक तारणी।।
माँ, सर्व काज सारणी।।१।।[…]

» Read more

जुड़ै जवान जोरवान

।।छंद – नाराच।।
मरट्ट धार खाय खार, आर पार उच्चरै।
बडी विचार ले उडार, व्योम वाट विच्चरै।
चँडी उचार बार बार, मार शत्रु मान रा।
जुड़ै जवान जोरवान, हेर हिंदथांन रा।।1।।[…]

» Read more
1 2 3