लीला पांणी नेस आवड मढ रो शबद चितराम

गीर रा जंगल रे माय एक जगह है जठे आवड जी महाराज रो मढ है। जंगल अर झाडी इतरी गाढी है के सूरज री किरणां धरती पर दीसै नी। म्है उण बात ने आवडजी महाराज री पुराणी मिथक कथा सूं प्रकृति रे सागै समन्वित करी। अगर किणी आदमी रे मन में इण बाबत री कोई शंका कुशंका वा तर्क हुवै तो वै लीलापाणीनेस जाय ने जंगल री झाडी देख सके जठै आज भी आवड जी महाराज प्रकृति री वनराजि री अनुपम लोवडी/भेळियो ओढर आज भी रोज सूरज नारायण ने साक्षात रोक रह्या है। दोहौ इण तरह सूं है। मन शंको […]

» Read more

काळे डूंगर राय रे

काळे डूंगर राय रे, नित मढ बजै नगाड।
गरजै घन जाणक गगन,आवत मास असाढ॥129
काळे डूंगर राय है,भाखर री भूपाळ।
सात बहन सँग ब्राजिया,खेलत खेतरपाळ॥130
कमळ दळां आसन करै, आवड मावड आप।
काळै डूंगर राय मढ,बैठा थें मां बाप॥131 […]

» Read more

लख नव लोवडियाळ

जद आवड जी महाराज री मन में कल्पना आवै तद मन कृष्ण रे विराट रूप ज्यू उण री कल्पना करे अर एक अनंत चितराम खडो हुवै। मां नें आपे विराट वपु धारणी चारणी जगतारणी कह सकां। उणमें छपन क्रोड चामुंड नव लख लोवडियाळ अर चौरासी चारणी रो एकीकृत अवतार समझ सकां। गर छपन क्रोड नवलाख अर चौरासी वपु धारणी आवड मां आप रा उतरा मुख सूं मां सुभाषीष देवै। उणसूं दुगणी आंख सूं पुरा जगत रा चराचर जीव ने देख सके।उण सूं बीस गुणा हाथ (बीस हथी) सूं सबने आसीस दे सके अर उण री सब आंगळी सूं जगत रा […]

» Read more

गांव खांण रे गुंदरे

गांव खांण रे गुंदरे, बैठी मां बिरदाळ।
आवड आंबलियाळ, जुग जुग जूनी जोगणी॥49
रखवाळी निश दिन करै, कर पकडै किरमाळ।
डोकरडी डाढाळ, गाढाळी गढवी तणी॥50
आया जिण दिन आसिया,लाखणथूंब ज छोड।
आवड मढ थाप्यौ उ दिन,कर कर मन मँह कोड॥51 […]

» Read more

जोगण जूनी जाळ

आभ धरा अवलंब, खंभ खरो जगदंब थूं।
थूं टेको थूं थंब, आखा जग रो आवडा॥1
रमती चाळकराय, मन रँग थळ में मावडी।
सुकवि रहै सहाय, बीस हथी वरदायिनी॥2
जोगण जूनी जाळ, प्रतपाळक पुहमी तणी।
चाळकने चरिताळ,आप बिराजी आवडा॥3 […]

» Read more

सांप नेस आवड मढ रो वर्णन

गीर रा गाढ ओरण रे मांय एक जगह है जिणरो नाम सांप नेस है। उठै भगवती आवड जी रो थान है। मैं मारी रचना “आवड आखै आसिया” रे मांय उण जगह री प्राकृतिक छटा रो वर्णन दोहा , सोरठा, तुंबेरा दोहा अर बडा दूहा रे माध्यम सुं करण री कोशिश करी है। आप सब लोगों सारू औ रचना सादर । […]

» Read more

आवड मां रा रंग रा दूहा

नाम लेय नामी भयी,जग बाजी जगदंब।
उण करनल री इष्ट जो,वा वड आवड रंग॥97
जिणनें सब जग में नमें,दीन अर दुखी दबंग।
तखत तेमडै जो तपै,वा वड आवड रंग॥98
लोवड सूर लुकावियो,भाई डसत भुजंग।
खरी खोडली री बहन,मावड आवड रंग॥99
रवि रथ सगती रोकियो,देख’र दुनिया दंग।
चारण कुळ अँजसावणी,मावड आवड रंग॥100[…]

» Read more

मढ में आवड मात रे

मढ में आवड मात रे, बजै ढोल तोतींग।
धींगड धींगड धींग ध्रं, धींगड धींगड धींग।।177

मढ में आवड मात रे, मोटो बजै मृदंग।
तिरकिट तिरकिट तुम ततक, तिरकिट तिरकिट तंग।।178

मढ में आवड मात रे, झालर बजै विराट।
झणणण झणणण झणण झण, झणण झणण झणणाट।।179

मढ में आवड मात रे, थाळी वजै अनंत।
थणणण थणणण थणण थण, थणण थणण थण थंत।।180[…]

» Read more

आवडजी रो चित्त इलोळ गीत

।आवडजी रो चित्त इलोळ गीत।
उमा रुप अनूप अवनि, आवडां लखि आदि।
बरण चारण जलम बाढी,आप किरती अनादि।
तौ अन्नादि जी अन्नादि अंबा अवतरी अन्नादि॥1॥
तौ धन्य जैसलमेर धरती,ग्राम चाळक गण्य।
साहुआं शाख तणो सुरज,मामडो कवि मन्य।
तौ धन्य हो जी धन्य,धारी देह उण धर धन्य॥2 […]

» Read more

ख्यात आईनाथ री अनोपो वखाणे-अनोप जी वीठू

श्री सुरसती गणपति वृहसपति शारदा,उकति सम्मपो अन्नदाता।
सापतातम्म री वारता सुणावां,मोतीवाळी हुई जगत माता॥1

हेमाळा पहाड सुं निसरे हालतो,गळियोडा बरफ रो नीर गोटो।
हिंद अर सिन्ध रै बीच मंह होयनै,मोतियां भरोडो पेट मोटो॥2

तिब्बत कम्बोज सुं उतरे ताकडो,हाकडो नांम दरियाव हाले।
घिरोळा देवतो बण्यो घण घमंडी,रतन रतनाकरो मांय राळै॥3 […]

» Read more
1 2 3 4