फोग रो छंद

छंद – नाराच
फबै थल़ी ज फोग तूं फल़ै ज फूठरो फबै
महक्क धोरियां मुदै सजै ज मोहणो सबै
थल़ी ज थाट तूंज सूं रल़ीज पूरणो रसा
अपै ज रूप ओयणां जुड़ैज होड ना जसा १

मुदै ज मात भोम सूं सप्रीत रीत तो सिरै
दखांज भोम दूसरी धिनो ज ध्यान ना धरै
बहैज एक वाट ही मरू रूपाल़ तूं मँडै
मनां तनां थल़ू मही ज तूं छटांक ना छँडै २ […]

» Read more
1 3 4 5