तंत्रोक्त रात्रिसुक्तम का भावानुवाद

रात्रि सुक्त तंत्रोक्त रा, मायड भासा मांझ।
आखर मांडूं ओपता, मेहाई महराज।।४१६
जोगण निद्रा आपरा, कथूं प्रवाडा राज।
उकती शुभ दो अंबिका, मेहाई महराज।।४१७
अखिल जगत अधिराजिनी, धारण वळै धरा ज।
उतपति थिति लय कारणी, मेहाई महराज।।४१८
अनुपम सगती इश री, नींद कहै दुनिया ज।
आवड वपु खुद अंबिका, मेहाई महराज।।४१९[…]

» Read more

ॠगवेदोक्त रात्रिसुक्तम भावानुवाद

रात्रि सुक्त ॠगवेद रा, आखर माडूं आज।
शुभ उकती मां समपजो, मेहाई महराज।।३९९
व्यापक वपु वसुधा तथा, जीव चराचर मांझ।
रात राजराजेस्वरी, मेहाई महराज।।४००
ईहग मन आलोकिणी, धारण सकळ धरा ज।
जथा करम फलदायिनी, मेहाई महराज।।४०१
अमरबेल रे जिम अमर, छाई बिरछ घटा ज।
रात राजराजेस्वरी, मेहाई महराज।।४०२[…]

» Read more

सांझ रूप माता स्वयं

लखी ललित शुभ लालिमा, अरुणिम अंबर आ ज।
सांझ रूप माता स्वयं, मेहाई महराज।।३९२
देशाणा मढ मांय नें, सरस पडी है सांझ।
आवड ने अरदा, मेहाई महराज।।३९३
रात प्रात री ब्हैनडी, वय संधिन् वळ सांझ।
चहूदिश चमकै चांदणी, मेहाई महराज।।३९४
पंछी पाछा आविया, वळिया माळा मांझ।
रात रूप रिधु मां नमूं, मेहाई महराज।।३९५[…]

» Read more

ॠगवेदोक्त देवीसुक्तम् का भावानुवाद

रहस कहण ॠगवेद रा, देवी सुक्तम राज।
आखर दीजो अम्बिका, मेहाई महराज।।३५२
सिर पर जिण धरियो ससी, सिंह सवारी साज।
मुख मणिमरकत कांतिमय, मेहाई महराज।।३५३
चौभुज चंडी चक्र धनु, शंख बाण धरिया ज।
तरण तारणी त्रंबका, मेहाई महराज।।३५४
बाजूबंध धर दुय भुजां, कंकण मांहि करां ज।
हीरक गळ बिच हारलो, मेहाई महराज।।३५५[…]

» Read more

नरपत खुद लिखिया नँही

नरपत खुद लिखिया नँही, मां रा आखर मां ज।
लिखिया लोवडवाळ खुद, मेहाई महराज।।३३१
म्हारै मन में उमडिया, आखर बणे अवाज।
मुख सूं तद में भाखिया, मेहाई महराज।।३३२
द्रग देखो देशाणपत, रसन रटो रिधु राज।
करण सुणो किनियांण रव, मेहाई महराज।।३३३
सरळ ह्रदय री डोकरी, रखो नोकरी राज।
तूं अधिपत तिहुलोक री, मेहाई महराज।।३३४[…]

» Read more

अर्गलास्तोत्रम् का भावानुवाद

अजब अर्गला स्तोत्र रा, कथूं कवित मँह राज।
सबद समप सुभकारिणी, मेहाई महराज।।३०४
काळी भद्र कपालिनी, स्वाहा स्वधा शिवा ज।
सचर अचर संचालिनी, मेहाई महराज।।३०५
छिमा, मंगला धातरी, जयँती अर दुरगा ज।
सूर चंद्र कोटि प्रभा, मेहाई महराज।।३०६
दे जय देवी चामुँडा, हारी वपु पीडा ज।
काळरात सब दिश-गता, मेहाई महराज।।३०७[…]

» Read more

सिध्धकुंजिकास्तोत्रम् का भावानुवाद

सिध्धकुंजिका सांतरी, करण सकळ शुभ काज।
गुरुचाबी गढवी तणी, मेहाई महराज।।२७२
चँडी जाप है चारणी, तारण भव जळ मां ज।
अवल नाम आणँद घण, मेहाई महराज।।२७३
कवच अरगला कीलकां, रो सब है मां राज।
रिधू राज राजेस्वरी, मेहाई महराज।।२७४
सुकत ध्यान अर न्यास सब, अरचन वंदन आ ज।
सरस नाम सुखरूप है, मेहाई महराज।।२७५[…]

» Read more

कहो केथ हो डोकरी

रण वन गिरवर समदरां,आपूं थनैं अवाज।
कहो केथ हो डोकरी,मेहाई महराज।। २५७
किनियाणी कूकै रियौ,आई सुणौ अवाज।
सुण ! सांची जग री सगत,मेहाई महराज।। २५८
क्यूं बोळी किनियाण ह्वी,जबर फँसी मां जाज।
कूक कूक कायो भयौ,मेहाई महराज।। २५९ […]

» Read more

आज आवसी अंबिका

आज आवसी अंबिका, मन मंदिर रे मांझ।
हरखित हुय हुलसित फिरुं, मेहाई महराज।।२४८
आंगण आज बुहारियौ, आवै माजी आज।
जाजम लाल जमायदूं, मेहाई महराज।।२४९
कंचन कळस मंडाय दूं, गंगा जळ भरिया ज।
सामेळो सुंदर करुं, मेहाई महराज।।२५०
ढोली ढोल वजाडता, झालर वेळा आज।
जय जय गूंजै आपरी, मेहाई महराज।।२५१[…]

» Read more

बाई पाती बांचजै

जो नँह करणी जनमता, मेहा रे घर मांझ।
उण नें करतो याद कुण, मेहाई महराज।।२३०
बेटी करणी मात बण, जाया कुळ किनिया ज।
अमर पिता जुग जुग कियो, मेहाई महराज।।२३१
भळळळ कुंडळ भळकता, झळळ हार गळ मांझ।
अनुपम आभा आप री, मेहाई महराज।।२३२
लोवड लाल लखावणी, डमरु हाथ लियां ज।
कर कंकण कंचन धर्या, मेहाई महराज।।२३३[…]

» Read more
1 2 3 4