🌷भँवर समोवड़ भांण!🌷

आद वरण री उतन आ, पुणां धरण पिछमांण।
सगत भगत घण सूरमा, उतपन किया अमांण।।1
अवनी आ आवड़ करी, पग रज मात पवीत।
रमी रास मन खास रँज, अहर निसा अघजीत।।2
आसकरण तिणराव उत, कुशललाभ कविराय।
सांगड़ रँगरेलो सिरै, ठावी कविता ठाय।।3
आसाणद ईसर अखां, सकव वडो हरसूर।
आणद करमाणद उठै, मही पात मसहूर।।4[…]

» Read more

राजस्थानी साहित्य रा थंभ सौभाग्य सिंहजी शेखावत ने श्रद्धांजलि

परम श्रद्धेय सौभाग्य सिंहजी शेखावत, राजस्थानी साहित्य रा थंभ हा। उणां डिंगल़ अर विशेषकर चारण साहित्य री जिकी सेवा करी, बा अनुपम अर अद्वितीय ही। म्हारै माथै उणांरी घणी मेहरबानी ही। म्हारी पोथी ‘मरूधर री मठोठ’ में आप आशीष सरूप अंजस रा आखर लिखिया। बीकानेर विराजता जितै, म्हनै फोन करर बंतल़ सारू बुलावता। लारलै वरस पोतै नै परणावण पधारिया जणै व्यक्तिगत फोन करर मिलण रो आदेश दियो पण दुजोग सूं मिल नीं पायो। अणुंतो स्नेह हो। म्हारी उण पुण्यात्मा अर दिव्यात्मा नैं सादर श्रद्धांजलि। उण बगत म्है आपनै कीं दूहा अर एक वेलियो गीत निजर कियो सो आपनैं ई मेल […]

» Read more