तूं मंदर-मंदर भटक मती!!

तूं मंदर-मंदर भटक मती!
यूं हर आगल़ सिर पटक मती!
टांग मती अपणायत ऊंची!
भाव स्नेह रा गटक मती!!
आश लियां आवै विश्वासी!
देय निराशा झटक मती!!!
ग्यान-गहनता बातां रूड़ी!
पतियायां तूं कटक मती!!
गरव सरव रो गल़तो दीठो!
भरम पाल़ नै मटक मती!!
बीज खार रा बोय बावल़ा!
अंतस अंतस खटक मती!!
डर सूं छापल़ झाल चौवटै!
गुंडां रो बण घटक मती !!
कदै अठीनै कदै बठीनै!
अधरझूल में लटक मती!!
मंजर नैणा! हिरदै पैणा!
वांरै द्वारै फटक मती!!
घात घात सूं घायल होयर!
तिड़-तिड़ सांप्रत तटक मती!!

~~गिरधर दान रतनू “दासोड़ी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *